खेतिहर संकट

खेतिहर संकट

 

बुजुर्गों की आबादी पर केंद्रित नई सरकारी रिपोर्ट एल्डरली इन इंडिया: प्रोफाइल एंड प्रोग्राम्स 2016 के महत्वपूरण तथ्य---

 

• लगभग सात करोड़ तीस लाख यानि देश की 71 फीसद बुजुर्ग आबादी गांवों में रहती है जबकि 3 करोड़ 60 हजार की की संख्या में बुजुर्ग आबादी(कुल का 29 प्रतिशत) शहरी इलाकों में रहती है.

 

•  साल 2001 से 2011 के बीच बुजुर्ग आबादी की वृद्धि 35.5 प्रतिशत रही जबकि इसके पिछले दशक में बुजुर्ग आबादी में बढोत्तरी 25.2 प्रतिशत हुई थी. आम आबादी 2001-2011 के बीच 17.7 प्रतिशत बढ़ी जबकि इसके पहले के दशक में आम आबादी में 21.5 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई थी. 

 

• साल 1961 से 2011 के बीच ग्रामीण भारत में बुजुर्ग आबादी की तादाद 5.8 प्रतिशत से बढ़कर 8.8 प्रतिशत तथा शहरी भारत में 4.7 प्रतिशत से बढ़कर 8.1 प्रतिशत हो गई है. 

 

• जनगणना के आंकड़ों से पता चलता है कि 0-14 आयु-वर्ग की आबादी में 1971 तक बढ़ोत्तरी हुई लेकिन इसके बाद के दशकों में धीरे-धीरे कमी होती गई.  साल 2011 में 0-14 आयु-वर्ग के लोगों की संख्या कुल आबादी में 30.8 प्रतिशत थी. बुजुर्गों की आबादी में 1951 से बढोत्तरी हो रही है और साल 2011 में यह बढोत्तरी 8.6 प्रतिशत पर पहुंच गई है. काम करने योग्य उम्र(15-59 वर्ष) के लोगों की संख्या 1971 से बढ़ रही है और इस आयु-वर्ग के लोगों की संख्या 2011 में कुल आबादी का 60.3 प्रतिशत थी. 

 

• प्रांतवार देखें तो केरल की आबादी में बुजुर्ग लोगों की तादाद सबसे ज्यादा(12.6प्रतिशत) है. इसके बाद गोवा(11.2 प्रतिशत) और तमिलनाडु(10.4 प्रतिशत) का स्थान है. इसकी वजह जीवनशैली और बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं हो सकती हैं. 

 

•देश के कुल 68.7 प्रतिशत परिवार या कह लें घरों कोई भी व्यक्ति 60 साल या इससे ज्यादा उम्र का नहीं है. ग्रामीण भारत में 67.5 प्रतिशत घरों में तथा शहरी भारत में 71.2 प्रतिशत घरों में कोई भी व्यक्ति 60 साल या इससे ज्यादा उम्र का नहीं है. देश के तकरीबन 21.6 प्रतिशत घरों में कोई एक व्यक्ति 60 साल या इससे ज्यादा उम्र का है जबकि 9.9 प्रतिशत घरों में दो व्यक्ति इस उम्र के हैं.

 

• 2011 की जनगणना के मुताबिक आम आबादी के लिए लिंगानुपात(प्रति 1 हजार पुरुषों पर स्त्रियों की संख्या) 943 है जबकि बुजुर्ग आबादी के लिए लिंगानुपात 1033 है. 1951 में भी तकरीबन यही स्थिति थी जब आम आबादी में लिंगानुपात प्रति हजार पुरुषों पर 946 स्त्रियों का था और बुजुर्ग आबादी में 1028 स्त्रियों का. 

 

• नई जनगणना(2011) से पता चलता है कि बुजुर्ग आबादी के बीच विवाहित महिलाओं की संख्या विवाहित पुरुषों की तुलना में कम है. 70 साल की उम्र के बाद 60 प्रतिशत से ज्यादा महिलाएं विधवा हो जाती हैं. 

 

• भारत में आयु-प्रत्याशा शहरी और ग्रामीण दोनों ही इलाके में बढ़ी है. सन् 1970-75 में ग्रामीण इलाके में किसी नवजात की आयु-प्रत्याशा 48 वर्ष की थी जो 2009-13 में बढ़कर 66.3 वर्ष हो गई है, शहरी इलाके में यह वृद्धि 58.9 वर्ष से बढ़कर 71.2 साल पर आ पहुंची है. ग्रामीण भारत के 60 साल की उम्र वाले लोगों के लिए आयु-प्रत्याशा 197-75 में 13.5 वर्ष की थी जो 2009-13 में बढ़कर 17.5 साल की हो गई है. शहरी भारत के 60 साल की उम्र वाले लोगों की लिए यह आंकड़ा 15.7 वर्ष से बढ़कर 19.1 साल का हो गया है. 

 

• 60 साल की उम्र वालों के लिए सर्वाधिक आयु-प्रत्याशा वाला राज्य पंजाब है जहां इसका आंकड़ा पुरुषों के लिए 19.3 वर्ष का है. 60 वर्ष की आयु वाले लोगों के लिए सबसे कम आयु-प्रत्याशा वाले राज्य असम और मध्य प्रदेश हैं जहां आंकड़ा 15.4 वर्ष का है. 60 साल की उम्र की महिलाओं के लिए सर्वाधिक आयु-प्रत्याशा वाला राज्य केरल(21.6 वर्ष) है और बिहार इस उम्र की महिलाओं के लिए सबसे कम आयु-प्रत्याशा(17.5 वर्ष) वाला राज्य.

 

• 2011 की जनगणना के मुताबिक ग्रामीण भारत में 66.4 प्रतिशत बुजुर्ग पुरुष और 28.4 प्रतिशत बुजुर्ग महिलाएं मुख्य या सीमांत कामगार के रुप में आर्थिक गतिविधियों में भाग लेते हैं. शहरों में बुजुर्ग पुरुषों के लिए यह आंकड़ा 46.1 प्रतिशत का और बुजुर्ग महिलाओं के लिए 11.3 प्रतिशत का है. साल 2001 से 2011 के बीच शहरी और ग्रामीण भारत में आर्थिक गतिविधि में भाग लेने वाली महिलाओं का अनुपात बढ़ा है. 

 

• बुजुर्ग महिलाओं में साक्षरता-दर(28प्रतिशत) बुजुर्ग पुरुषों की साक्षरता-दर(59फीसद) की तकरीबन आधा है. 

 

• शहरी इलाकों में 30.3 प्रतिशत बुजुर्ग व्यक्ति माध्यमिक स्तर तक शिक्षित हैं जबकि ग्रामीण भारत में ऐसे बुजुर्गों की तादाद 7.1 प्रतिशत है. 

 

• 2011 की जनगणना के मुताबिक बुजुर्ग आबादी को दो तरह के रोग सबसे ज्यादा है- एक तो दृष्टि संबंधी और दूसरे चलने-फिरने से सबंधित.  

 

• गांवों में 5.59 प्रतिशत और शहरों में 4.18 प्रतिशत बुजुर्ग एक ना एक तरह की (रोगजन्य) असमर्थता से पीड़ित हैं.

 


Rural Experts

Related Articles

 

Write Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Video Archives

Archives

share on Facebook
Twitter
RSS
Feedback
Read Later