खेतिहर संकट

खेतिहर संकट

 

 

राष्ट्रीय प्रतिदर्श सर्वेक्षण के 70 वें दौर की गणना पर आधारित की इंडीकेटर्स ऑफ एग्रीकल्चरल हाऊसहोल्ड इन इंडिया( जनवरी-दिसंबर 2013, प्रकाशित 2015 जनवरी) नामक रिपोर्ट के तथ्यों के अनुसार-

http://www.im4change.org/siteadmin/http://www.im4change.or
g/siteadmin/tinymce///uploaded/Situation%20Assessment%20Su
rvey%20of%20Agricultural%20Households%20in%20NSS%2070th%20
Round.pdf

 

--- वर्ष 2012 के जुलाई से 2013 के जून महीने के बीच देश में तकरीबन 90.2 मिलियन खेतिहर परिवार थे। खेतिहर परिवारों की संख्या कुल ग्रामीण परिवारों की संख्या का 57.8 प्रतिशत है।

---- उत्तरप्रदेश में देश के कुल खेतिहर परिवारों की 20 प्रतिशत तादाद रहती है। यूपी में खेतिहर परिवारों की संख्या 18.05 है। राजस्थान के ग्रामीण परिवारों में खेतिहर परिवारों की संख्या सबसे ज्यादा (78.4 प्रतिशत) है। उत्तरप्रदेश के ग्रामीण परिवारों के बीच खेतिहर परिवारों की संख्या 74.8 प्रतिशत है जबकि मध्यप्रदेश में 70.8 प्रतिशत।

---- केरल में ग्रामीण परिवारों के बीच खेतिहर परिवारों की संख्या सबसे कम (27.3 प्रतिशत) है। तमिलनाडु के ग्रामीण परिवारों के बीच खेतिहर परिवारों की तादाद 34.7 प्रतिशत है जबकि आंध्रप्रदेश में 41.5 प्रतिशत।

---- सर्वेक्षण की अवधि के दौरान देश के लगभग 45 प्रतिशत खेतिहर परिवार ओबीसी समुदाय के थे जबकि 16 प्रतिशत खेतिहर परिवार अनुसूचित जाति के और 13 प्रतिशत खेतिहर परिवार अनुसूचित जनजाति समुदाय के थे।

---- सर्वेक्षण की अवधि में 45 प्रतिशत ग्रामीण परिवार ओबीसी समुदाय के थे जबकि 20 प्रतिशत परिवार अनुसूचित जाति के और 12 प्रतिशत ग्रामीण परिवार अनुसूचित जनजाति के थे।

--- सर्वेक्षण में तकरीबन 63.5 प्रतिशत खेतिहर परिवारों ने खेती को अपनी आमदनी का प्रमुख स्रोत बताया जबकि 22 प्रतिशत खेतिहर परिवारों ने मजदूरी को अपनी आमदनी का प्रधान स्रोत बताया।

---- जिन खेतिहर परिवारों की मालकियत में 0.01 हैक्टेयर या उससे कम जमीन थी उनमें से 56 प्रतिशत ने कहा कि हमारी आमदनी का प्रमुख स्रोत मजदूरी है जबकि 23 प्रतिशत का कहना था कि उनकी आमदनी का प्रमुख स्रोत पशुपालन है।

---- जिन खेतिहर परिवारों की मालकियत में 0.40 हैक्टेयर से ज्यादा की जमीन थी उनमें से ज्यादातर ने खेती को अपनी आमदनी का प्रधान स्रोत बताया  जिन खेतिहर परिवारों के पास -------- 0.01  से  0.04 हैक्टेयर की जमीन थी उन्होंने खेती(42 प्रतिशत) तथा मजदूरी (35 प्रतिशत) दोनों को अपनी आमदनी का प्रधान स्रोत बताया।.

----- केरल को छोड़कर अन्य सभी बड़े राज्यों में खेती और पशुपालन तथा अन्य कृषिगत गतिविधियां ज्यादातर खेतिहर परिवारों के लिए आमदनी का प्रमुख स्रोत हैं। केरल में 61 प्रतिशत खेतिहर परिवार अपनी आमदनी का ज्यादातर हिस्सा गैर-खेतिहर कामों से अर्जित करते हैं।

----- असम, छत्तीसगढ़ तथा तेलंगाना के 80 प्रतिशत से ज्यादा खेतिहर परिवारों ने खेती-बाड़ी को अपनी आमदनी का प्रमुख जरिया बताया। राजस्थान में हालांकि 78 प्रतिशत से ज्यादा ग्रामीण परिवार खेतिहर हैं तो भी वहां सिर्फ 47 प्रतिशत खेतिहर परिवारों ने अपनी आमदनी का प्रमुख जरिया खेती-बाड़ी को बताया।

----- मध्यप्रदेश के 78 प्रतिशत खेतिहर परिवारों के लिए खेती-बाड़ी ही आमदनी का प्रमुख जरिया है जबकि वहां 71 प्रतिशत से कम ग्रामीण परिवार खेतिहर हैं।

----- तमिलनाडु, गुजरात, पंजाब तथा हरियाणा के 9 प्रतिशत खेतिहर परिवारों ने पशुपालन को आमदनी का प्रमुख स्रोत बताया।

----- देश के तकरीबन 93 प्रतिशत खेतिहर परिवारों के पास घराड़ी की जमीन के अतिरिक्त भी किसी ना किसी तरह की जमीन है जबकि 7 प्रतिशत खेतिहर परिवारों के पास सिर्फ घराड़ी की जमीन है।

----- देश के ग्रामीण अंचलों में तकरीबन 0.1 प्रतिशत परिवार भूमिहीन हैं। जिन खेतिहर परिवारों के पास 0.01 हैक्टेयर से कम जमीन है उनमें से 70 प्रतिशत परिवारों के पास सिर्फ घराड़ी की जमीन है।

----- देश के तकरीबन 12 प्रतिशत खेतिहर परिवारों के पास सर्वेक्षण के अवधि में राशनकार्ड नहीं थे। तकरीबन 36 प्रतिशत खेतिहर परिवारों के पास बीपीएल श्रेणी का राशन कार्ड सर्वेक्षण अवधि में पाया गयाय़ 5 प्रतिशत खेतिहर परिवारों के पास अंत्योदय श्रेणी का राशन कार्ड था।

----- खेती, पशुपालन, गैर-खेतिहर काम तथा मजदूरी को आपस में मिलाकर देखें तो इन सभी स्रोतों से खेतिहर परिवारों को सर्वेक्षण अवधि में औसतन मासिक आमदनी.6426/ रुपये की थी। सर्वेक्षण अवधि के दौरान खेतिहर परिवारों की आमदनी में खेती तथा पशुपालन से प्राप्त आय का इस मासिक आमदनी में 60 प्रतिशत का योगदान था। आमदनी का तकरीबन 32 प्रतिशत हिस्सा मजदूरी से आ रहा था।

----- सर्वेक्षण अवधि में अखिल भारतीय स्तर पर खेतिहर परिवारों का औसत मासिक व्यय.6223/ रुपये पाया गया।

----- देश के तकरीबन 52 प्रतिशत खेतिहर परिवार कर्जे में हैं। ऐसे हर खेतिहर परिवार पर औसतन 47000/ रुपये का कर्ज है।-

----- आंध्रप्रदेश में तकरीबन 92.9 प्रतिशत खेतिहर परिवारों पर कर्ज है जबकि तेलंगाना में 89.1 प्रतिशत तथा तमिलनाडु में 82.5 प्रतिशत खेतिहर परिवार कर्जे में हैं। असम (17.5 प्रतिशत), झारखंड (28.9 प्रतिशत), छत्तीसगढ़ (37.2 प्रतिशत) में कर्जदार खेतिहर परिवारों की संख्या आंध्रप्रदेश की तुलना में कम है।

---- केरल में खेतिहर परिवारों के ऊपर सबसे ज्यादा कर्ज (.213600/- रुपये) है। इसके बाद आंध्रप्रदेश के खेतिहर परिवारों का नंबर है जहां कर्जदार खेतिहर परिवार पर औसतन 123400 रुपये का कर्ज है।  पंजाब में कर्जदार खेतिहर परिवारों के ऊपर 119500 रुपये का कर्ज है जबकि असम में ऐसे परिवारों के ऊपर 3400 रुपये का तथा झारखंड में ऐसे परिवारों के ऊपर 5700 रुपये का कर्ज है। छत्तीसगढ़ के कर्जदार खेतिहर परिवारों के ऊपर 10200 रुपये का कर्ज है। 

 


Rural Experts

Related Articles

 

Write Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Video Archives

Archives

share on Facebook
Twitter
RSS
Feedback
Read Later