छुआछूत अब भी जारी है....

अनदेखी और उपेक्षा के बीच छुआछूत का बरताव जारी है और देश में अस्पृश्यता की समस्या मौजूद है। यह लाखों लोगों के लिए उम्र भर दुःख और अपमान के बीच रहने और जीने का मामला है। इसकी कल्पना बरतर सामाजिक हालातों में जीने वाले नहीं कर सकते लेकिन जैसा कि गुजरे 14 अप्रैल, 2012 से शुरु हुए अनुच्छेद 17 अभियान के अंतर्गत इंडिया अनहर्ड द्वारा जारी 22 छोटे और आसानी से देखे जा सकने वाले वीडियो से जाहिर होता है- देश के 120 करोड़ की आबादी के तकरीबन पांचवें हिस्से के लिए छुआछूत के बरताव से पैदा दुःख और अपमान रोजमर्रा का अनुभव है। इंडिया अनहर्ड के बारे में दावा किया जा रहा है कि वह “ वीडियो वालंटियर्स द्वारा शुरु की गई प्रथम सामुदायिक समाचार-सेवा है।”.

 

देश के कोने-कोने से खींची गई तस्वीरों पर आधारित ये वीडियो हमारे देश के सामाजिक जीवन का एक प्रतिनिधि चित्र प्रस्तुत करते हैं। इंडिया अन्हर्ड का कहना है कि “ हमारे सामुदायिक संवाददाताओं ने पूरे देश में दो महीने तक छुआछूत की समस्या को आंखोंदेखी दर्ज किया। चूंकि ये संवाददाता समुदाय-विशेष के ही थे इसलिए वे उन अंतरंग सच्चाइयों की भी तस्वीर उतार सके जो बाहरी आदमी की नजर में शायद ही कभी आती हैं।”

 

वीडियो से अमानवीय बरताव का शिकार होते जीवन की कहानी उभरकर सामने आती है- एक ऐसे जीवन की जो समाज में रहते हुए समाज से बाहर है, जिसे साथ उठने-बैठने और खाने तक नहीं दिया जाता, जिसे तीज-त्योहारों में भागीदार होने के काबिल नहीं माना जाता, एक ऐसा जीवन जो साफ-सफाई के किसी भी सरकारी योजना से दूर हद से ज्यादा मलिन बस्तियों में रहने के लिए अभिशप्त मान लिया गया है। बच्चों को स्कूलों में दोपहर का भोजन उनकी जाति का पता करके दिया जाता है और दलितों को अपने दाढ़ी-बाल बनवाने के लिए नजदीक के शहर तक जाना पड़ता है क्योंकि गांव के हज्जाम के पास जाने पर पाबंदी है।जो कुएं-तलाब और नलके सबके लिए खुले हैं वहां से भी उन्हें पानी भरने नहीं दिया जाता, शिकायतों और अर्जियों पर शायद ही कभी सुनवाई होती है और पंचायती संस्थाओं में भी अपनी बात कहने से रोक दिया जाता है।वीडियो से उन अमानवीय और बहुधा मौत के मुंह में ले जाने वाले हालातों का पता चलता है जिनके दायरे में किसी सफाई कर्मचारी को काम करना होता है। सफाई कर्मचारी सीवरों और मेनहोलों की सफाई नंगे हाथ करने को बाध्य हैं, उनके पास सुरक्षा के बुनियादी उपकरण जैसे दस्ताने और मास्क तक नहीं होते। और, अगर इन दमघोंटू कामों को करने में वे थोड़ी भी हिचक दिखायें तो फिर समाज की तरफ से कठोर दंड मिलता है, कभी-कभी तो मृत्यु-दंड भी। भेदभाव मौत के बाद भी जारी रहता है, दलित समुदाय को अपने सदस्य का अंतिम संस्कार बाकी लोगों के अंतिम संस्कार की जगह से अलग कहीं दूर जाकर करना पड़ता है।

 

यह बरताव दलित समुदाय के सदस्य को उसकी बुनियादी गरिमा से वंचित करता है, भेदभाव और वंचना की स्थिति तक ले जाता है, वे हाशिए का जीवन जीने को बाध्य होते हैं जहां बाकी लोगों से मिलना-जुलना, उठना-बैठना सबपर पाबंदी होती है।

 

छुआछूत हमारे समाज के मानस में इस गहराई तक पेवस्त है कि तथाकथित तौर पर अछूत मानी गई जातियों के भीतर भी इसका बरताव होता है, इनमें कुछ जातियां अपने से अन्य किसी दूसरी जाति को अछूत मानती है। एक वीडियो में एक दलित आदमी यह कहते हुए देखा जा सकता है कि वह अपने बेटे-बेटी का ब्याह अपने से नीची मानी जाने वाली जाति में नहीं करेगा।

 

इस अभियान का नाम अनुच्छेद- 17 अभियान रखा गया है। संविधान के अनुच्छेद 17 में अस्पृश्यता को उसके हर रुपाकार में प्रतिबंधित किया गया है।: “ अस्पृश्यता खत्म की जाती है और किसी भी रुपाकार में इसका बरताव प्रतिबंधित है। अस्पृश्य मानकर किसी भी किस्म से अयोग्य ठहराना कानून की नजर में दंडनीय अपराध है।”

 

वीडियो वालंटियर्स ने पूरे विश्व के लोगों को राष्ट्रीय अनूसूचित जाति आयोग को एक ऑनलाइन अर्जी पर हस्ताक्षर करने के लिए आमंत्रित किया है। इस अर्जी में कहा गया है कि अनुच्छेद-17 अभियान के वीडियो में जो लोग छुआछूत का बरताव करते पाये गए हैं उन्हें दंड दिया जाय: “ हमारी मांग है कि छुआछूत के बरताव से नागरिकों को बचाने वाले कानूनों की निगरानी और उन्हें लागू करवाने के लिए जिम्मेदार संस्था राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग वीडियो में दर्ज मामलों तथा ऐसे अन्य मामलों के दोषियों पर दंडात्मक कार्रवाई करे।”.

 

                                                   भारतीय संविधान के कुछ तथ्य

                                                " भारतीय संविधान की प्रस्तावना ":

 

 

"हम भारत के लोग,पवित्रतापूर्वक यह निश्चय करके कि भारत को सार्वभौमिक,लोकतांत्रिक गणतंत्र बनाना है तथा अपने नागरिकों के लिए-------

न्याय--सामाजिक,आर्थिक,तथा राजनैतिक ;

स्वतन्त्रता--विचार,अभिव्यक्ति,विश्वास,आस्था,पूजा पद्धति अपनाने की;

समानता--स्थिति और अवसर की एवम् इसको सबमें बढ़ाने की;

बंधुत्व--व्यक्ति की गरिमा एवं देश की एकता का आश्वासन देने वाला ;

सुरक्षित करने के उद्देश्य से

आज २६ नवम्बर १९४९ को संविधान-सभा में,इस संविधान को अंगीकृत ,पारित तथा आत्मार्पित करते हैं।"
 
 
उपर्युक्त विषय पर कुछ उपयोगी लिंक-
 

http://hosted.verticalresponse.com/843889/362ba0e905/14130
67057/4827f2f30a/

http://indiaunheard.videovolunteers.org/anti-untouchability/

http://www.youtube.com/watch?v=lgDGmYdhZvU&feature=related

Caste-based discrimination in India,

http://lib.ohchr.org/HRBodies/UPR/Documents/Session1/IN/IM
AAFDR_IND_UPR_S1_2008_InternationalMovementAgainstAllForms
ofDiscriminationandRacisism_etal_uprsubmission.pdf

Publications from Indian Institute of Dalit Studies,

http://www.dalitstudies.org.in/index.php?option=com_conten
t&view=article&id=74&Itemid=75

International Consultation on Caste-Based Discrimination,

http://www.indianet.nl/pdf/InternationalConsultationOnCast
e-BasedDiscrimination.pdf

Caste-based Discrimination in South Asia,

http://www.europarl.europa.eu/meetdocs/2009_2014/documents
/droi/dv/201/201102/20110228_510eustudy_en.pdf

Slavery or Sumangali? Exploitation of Dalit Girls Exposed

http://www.im4change.org/news-alert/slavery-or-sumangali-e
xploitation-of-dalit-girls-exposed-8835.html

Dip in crimes on dalits, not much to cheer, The Hindustan Times, 17 April, 2012, http://www.im4change.org/rural-news-update/dip-in-crimes-o
n-dalits-not-much-to-cheer-14560.html

Untouchability under security meet scanner-Nishit Dholabhai, The Telegraph, 18 April, 2012, http://www.im4change.org/rural-news-update/untouchability-
under-security-meet-scanner-nishit-dholabhai-14511.html

Dalit students shun this government school by PV Srividya, The Hindu, 15 April, 2012, http://www.im4change.org/rural-news-update/dalit-students-
shun-this-government-school-by-pv-srividya-14431.html

Clash in Hyderabad over Dalits' right to eat beef-Ashok Das, The Hindustan Times, 17 April, 2012, http://www.im4change.org/rural-news-update/clash-in-hydera
bad-over-dalits039-right-to-eat-beef-ashok-das-14481.html

Dalits suffered most during Maya rule: MHA report, The Indian Express, 9 April, 2012, http://www.im4change.org/rural-news-update/dalits-suffered
-most-during-maya-rule-mha-report-14260.html

The Scream of the Ants by Panini Anand, 2 April, 2012, http://www.kindlemag.in/srorys_details.php?id=Mjk4&&am
p;displayid=MQ
==

Sterilisations carried out under torchlight on Dalits, SC asks why, The Financial Express, 2 April, 2012, http://www.im4change.org/rural-news-update/sterilisations-
carried-out-under-torchlight-on-dalits-sc-asks-why-14172.h
tml

'Made-Snana', Brahmin 'atrocity against Dalits' to be banned: CM, The Financial Express, 29 March, 2012, http://www.im4change.org/rural-news-update/039made-snana03
9-brahmin-039atrocity-against-dalits039-to-be-banned-cm-14
069.html

Dalit attacked for drinking from upper caste’s pot by Bhaskar Mukherjee, The Times of India, 17 February, 2012, http://www.im4change.org/rural-news-update/dalit-attacked-
for-drinking-from-upper-castes-pot-by-bhaskar-mukherjee-13
241.html

स्कूल नहीं, बकरी चराते हैं दलित बच्चे

http://www.jagran.com/bihar/madhubani-8884241.html

दलित छात्रा को सरकारी नल पर पानी पीने से रोका

http://www.upwebnews.com/News%20March%2012/news-25032012-k
ushinagar-dalit-chatra.htm

यूपी शर्मसारः दबंगों ने महिला को निर्वस्त्र कर घुमाया

http://www.amarujala.com/national/Nude-women-are-rotated-t
o-create-panic-in-Barabanki-25644.html

दलित की पीट-पीट कर हत्या के बाद शव पेड़ से लटकाया

http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/3164516.cms

आम के लिए दलित की पीट पीटकर हत्या

http://www.amarujala.com/national/nat-A-Dalits-murder-for-
a-mango-26063.html

सीवर में सफाई करने के दौरान दम घुटने से दो की मौत

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/haryana/4_6_7743250.html

 



Related Articles

 

Write Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Video Archives

Archives

share on Facebook
Twitter
RSS
Feedback
Read Later