पानी और साफ-सफाई

पानी और साफ-सफाई

What's Inside

 
 

विश्व स्वास्थ्य संगठन/ यूनिसेफ ज्वाईंट मॉनिटरिंग रिपोर्ट 2012: प्रोग्रेस ऑन ड्रिंकिंग वाटर एंड सैनिटेशन नामक दस्तावेज के अनुसार http://www.who.int/water_sanitation_health/publications/20
12/jmp2012.pdf
,

• भारत में खुले में शौच करने वाले लोगों की संख्या 626 मिलियन है। यह संख्या 18 देशों में खुले में शौच करने वाले लोगों की संयुक्त संख्या से ज्यादा है।


• खुले में शौच करने वाले लोगों की संख्या पूरे दक्षिण एशिया में 692 मिलियन है। इस संख्या का 90 फीसदी भारत में रहता है।

• विश्व में कुल 1.1 बिलियन लोग खुले में शौच करते हैं। इस संख्या का 59 फीसदी भारत में रहता है।

• पेयजल के संवर्धित स्रोतों से वंचित लोगों की संख्या भारत में 97 मिलियन है। इस मामले में भारत बस चीन से ही पीछे यानी दूसरे स्थान पर है।.

• साल 1990 के बाद से चीन में 593 मिलियन और भारत में 251मिलियन लोगों को साफ-सफाई की संवर्धित सेवाएं हासिल हुई हैं।.

• साफ-सफाई की सुविधा की दिशा में विश्व में जितनी प्रगति हुई है उसका तकरीबन 50 फीसदी हिस्सा सिर्फ दो देशों भारत और चीन का है।

पानी

• साल 2010 में विश्व की 89 फीसदी यानी 6.1 बिलियन लोगों को पेयजल की संवर्धित सेवा हासिल थी। MDG के अन्तर्गत लक्ष्य 88 फीसदी का था। साल 2015 तक यह तादाद 92 फीसदी तक पहुंच जाएगी।

• साल 1990 और 2010 के बीच तकरीबन 2 बिलियन लोगों को संवर्धित पेयजल-स्रोत हासिल हुए।

• दुनिया की 11 फीसदी यानी 783 मिलियन आबादी अब भी पेयजल की सुविधा से वंचित है।

• विश्व स्वास्थ्य संगठन / यूनिसेफ जेएमपी का आकलन है कि साल 2015 तक पेयजल की सुविधा से वंचित लोगों की संख्या 605 मिलियन पहुंच सकती है।

साफ-सफाई

• दुनिया की 63 फीसदी आबादी टॉयलेट तथा साफ-सफाई की अन्य संवर्धित सेवाओं का इस्तेमाल करती है।

• साल 2015 तक दुनिया के तकरीबन 67 लोगों को साफ-सफाई की संवर्धित सेवाएं हासिल हो जाएंगी। इस मामले में एमडीजी(सहस्राब्दि विकास लक्ष्य) के अन्तर्गत लक्ष्य 75 फीसदी आबादी का था।

• साल 1990 से अबतक तकरीबन 1.8 बिलियन लोगों को साफ-सफाई की संवर्धित सेवाएं हासिल हुई हैं।

• दुनिया में 2.5 बिलियन लोग साफ-सफाई की संवर्धित सेवाओं से वंचित हैं। इनकी संख्या 2015 तक 2.4 बिलियन होने का अनुमान है।

• तकरीबन 1.1 बिलियन (यानी विश्व की 15 फीसदी आबादी)लोग खुले में शौच करते हैं।

• खुले में शौच करने वाले लोगों की कुल संख्या में 949 मिलियन लोग गांवों में रहते हैं।

निम्नलिखित देशों में खुले में शौच करने वाले लोगों की संख्या का एक-तिहाई हिस्सा रहता है-:

भारत (626 मिलियन)
इंडोनेशिया (63 मिलियन)
पाकिस्तान (40 मिलियन)
ईथोपिया (38 मिलियन)
नाईजीरिया (34मिलियन)
सूडान (19 मिलियन)
नेपाल (15 मिलियन)
चीन (14 मिलियन)
नाईजर (12 मिलियन)
बुरकीना फासो (9.7मिलियन)
मोजाम्बिक (9.5मिलियन)
कंबोडिया (8.6 मिलियन)
 
 


Related Articles

 

Write Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Video Archives

Archives

share on Facebook
Twitter
RSS
Feedback
Read Later