खोज परिणाम

Total Matching Records found : 1184

नरेगा यानी लूट की पूरी छूट

त से रू-ब-रू करा सकता है। भारत सरकार ने ग्रामीण क्षेत्र में रहनेवाले भूमिहीन, मजदूर एवं लघु कृषक परिवारों के आजीविका को सुरक्षित रखने के उद्देश्य से रोजगार अभाव के समय 100 दिनों

कुछ और »

मेट्रो निर्माण के दौरान 1998 से अब तक सौ लोगों की जान गई

ों पर अब तक करीब सौ लोगों की जान जा चुकी है। मारे गए लोगों में एक इंजीनियर और 93 मजदूर थे। दक्षिण दिल्ली के जमरूदपुर में इस महीने की शुरूआत में निर्माणाधीन पुल के साइट पर हुए हाद

कुछ और »

ना ना करो बहाना करो- प्रभाष जोशी

जयपुर स्थित स्थानीय विश्वविद्यालय के मानविकी विभाग के सभागार में। मौका था मजदूर किसान शक्ति संगठन और साथी संगठन द्वारा आयोजित जन-सुनवाई का और शिकायतें थीं राजस्थान के सूच

कुछ और »

नरेगा- बदले बदले से सरकार नजर आते हैं..

ेगा में किये जा रहे बदलावों के मुखर विरोधियों में अर्थशास्त्री ज्यां द्रेज, मजदूर किसान शक्तिसंगठन की अरुणा राय, साझामंच के दुनू राय, जनआंदलनों के राष्ट्रीय गठबंधन एनएपीएम

कुछ और »

भोजन का अधिकार विधेयक-छूट ना जाये पत्तल में छेद

भुखमरी की स्थिति से निबटने में मददगार साबित होंगे। इसके अतिरिक्त आप्रवासी मजदूर, अपंगता जनित अक्षमता के शिकार, स्कूल-वंचित बच्चों तथा गर्भिणी स्त्रियों और नवजात शिशुओं की

कुछ और »

बेशुमार जुगनुओं की जरूरत

अपने बूते करिए. अपने उत्पाद खुद डिजाइन करिए, अपनी मशीनें भी खुद बनाइए और अपने मजदूरों, इंजीनियरों और डिजाइनरों को प्रशिक्षण भी खुद ही दीजिए. यही वजह थी कि टाटा मोटर्स (तब टेल्क

कुछ और »

आंकड़ों में गांव

मीण श्रमिक बल तथा 45 प्रतिशत शहरी श्रम बल अपने रोजगार में है। ग्रामीण दिहाड़ी मजदूर भारत में कुल कार्य बल का एकल सबसे बड़ा भाग हैं। • खेती की लागत के आंकड़ों से पता चलता है कि

कुछ और »

खेतिहर संकट

खेती को अपनी आमदनी का प्रमुख स्रोत बताया जबकि 22 प्रतिशत खेतिहर परिवारों ने मजदूरी को अपनी आमदनी का प्रधान स्रोत बताया। ---- जिन खेतिहर परिवारों की मालकियत में 0.01 हैक्टेयर य

कुछ और »

वनाधिकार

की संख्या 68 प्रतिशत से घटकर 45 प्रतिशत रह गई थी जबकि आदिवासी समुदाय के खेतिहर मजदूरों की संख्या 20 प्रतिशत बढ़कर 2001 तक 37 प्रतिशत हो गई थी। इससे आदिवासी आबादी के बीच बढ़ती भूमिही

कुछ और »

भोजन का अधिकार

ी मौजूदा योजनाओं दायरे में जो लोग नहीं हैं मसलन- स्कूल-वंचित बच्चे, आप्रवासी मजदूर और उनके परिवार, बंधुआ मजूरी के शिकार परिवार, विस्थापित और बेघर लोग और शहरी क्षेत्र के गरीब आ

कुछ और »

Video Archives

Archives

share on Facebook
Twitter
RSS
Feedback
Read Later