खोज परिणाम

Total Matching Records found : 1179

किसानों का अविश्वास मत पास-- योगेन्द्र यादव

िसमें पैसा किसानों के बजाय कंपनियों के पास गया. बुजुर्ग और छोटे किसानों, खेत मजदूरों के कल्याण की योजना का वादा ही भूला दिया गया. राष्ट्रीय भूमि उपयोग नीति की बात भी नहीं सुनी

कुछ और »

धान के गीत गानेवाले-- डा. अनुज लुगुन

ीकों से जुड़ने में समस्या खड़ी हो रही है. जबकि आज भी छोटे किसान जो महानगरों में मजदूरी के लिए चले जाते हैं, वे खेती के दिनों में लौट आते हैं. यानी, धान और उससे जुड़े उत्पादों में रोज

कुछ और »

ये किस देश के लोग हैं!-- कुमार प्रशांत

ों ने अात्महत्या कर ली है, तो पूछना ही पड़ता है- ये किस देश के लोग हैं? किसान-मजदूर, छोटे व्यापारियों और नागरिक जीवन विकृतियों अौर विद्रूपताअों से ऐसा बजबजा रहा है कि सामान्

कुछ और »

सुधारों से ही बदलेगी कृषि की तस्वीर - सीता

सानों द्वारा फसल उत्पादन में किए गए सभी तरह के नकदी खर्च जैसे बीज, खाद, रसायन, मजदूर खर्च, ईंधन खर्च, सिंचाई खर्च आदि शामिल होते हैं। ए2 प्लस एफएल लागत में नकदी खर्च के साथ ही कृष

कुछ और »

'बीते एक साल में 20 लोगों की भुखमरी से मौत, सभी वंचित तबके के'-- रोजी रोटी अधिकार अभियान

से मांग लाया । 4 दिन पहले वहभी। दोनों बड़े बेटों जिसमे एक 17 साल का था दूसरा 13 का, मजदूरी के लिए नासिक भेज दिया था। शुक्रवार को पता चला कि सरकारी राशन नरैनी में मिलेगा तो खाली पेट स

कुछ और »

नियमित हों कॉलेज शिक्षक- आर के सिन्हा

हर वक्त नौकरी जाने का भय रहेगा, उससे आप क्या उम्मीद करेंगे? इनकी स्थिति बंधुआ मजदूरों से भी बदतर है. जिन दिनों कॉलेजों में गर्मियों का अवकाश रहता है, तब इनके पास कोई काम ही नहीं

कुछ और »

सिल्ली : घर में नहीं है अनाज, योजनाओं का भी नहीं मिल रहा लाभ

हां अकेले रह रहे कार्तिक महली (63 वर्ष) के घर में अनाज नहीं है. कमजोरी के कारण वह मजदूरी भी नहीं कर पा रहा है. हाल यह है कि वह पड़ोस से मांग कर अपनी भूख मिटा रहा है. मिट्टी की कोठरी म

कुछ और »

पचास रुपए दिन की मजदूरी करने वाला झारखंड का ये किसान अब साल में कमाता है 50 लाख रुपए

रांची(झारखंड)। किसान गंसू महतो एक समय 50 रुपए दिहाड़ी की मजदूरी के लिए घर से 25 किलोमीटर दूर जाते थे, लेकिन अपनी सूझबूझ से इन्होंने अपनी 9 एकड़ जमीन को बंजर से उपजाऊ बनाया और अब सालान

कुछ और »

मजदूर दिवस पर बोले ज्यां द्रेज़- NREGA को जिंदा रखने के लिए मजदूरी दर बढ़ाना जरूरी

मजदूर दिवस यानी मे डे के मौके पर सरकार कई दावे कर रही है. सरकारी आंकड़ों में कहा जा रहा है कि भारत की अर्थव्यवस्था उच्च दर से बढ़ रही है. लेकिन, जाने-माने अर्थशास्त्री ज्यां द्र

कुछ और »

किसानों की हालत बदलनी होगी-- प्रो. योगेन्द्र यादव

रोड़ से भी कम यानी कामगारों का 24.6 प्रतिशत ही बचे हैं. उनकी तुलना में खेत में मजदूरी करनेवालों की संख्या कहीं अधिक यानी 14 करोड़ से ज्यादा या कामगारों का लगभग 30 प्रतिशत है. जमीन

कुछ और »

Video Archives

Archives

share on Facebook
Twitter
RSS
Feedback
Read Later