खोज परिणाम

Total Matching Records found : 1938

संविधान में आर्थिक रूप से कमज़ोर लोगों के लिए आरक्षण देने का प्रावधान नहीं: जस्टिस चेलमेश्वर

ेयक को पारित किया था, जिसमें सामान्य वर्ग में ईडब्ल्यूएस के लिए नौकरियों और शिक्षा में 10 प्रतिशत आरक्षण प्रदान किया गया. बिल को चुनौती देते हुए सुप्रीम कोर्ट के समक्ष एक याचि

कुछ और »

तमिलनाडु में महात्मा की चमक-- रामचंद्र गुहा

सर्वोदय परंपरा के ऐसे सामाजिक कार्यकर्ता थे, जिन्होंने अपना जीवन बुनियादी शिक्षा, कताई-बुनाई प्रशिक्षण और सतत विकास के लिए काम करते हुए गांधी के आदर्शों के प्रचार प्रसार म

कुछ और »

जजों की नियुक्ति का जटिल सवाल - प्रो. मक्खनलाल

न्हें परोक्ष तौर पर अपमानित किया गया। इस पर कभी इंदिरा गांधी की ही सरकार में शिक्षा और विदेश मंत्री रहे जस्टिस छागला ने कहा था कि हमारी न्यायिक परंपरा एवं इतिहास का यह सबसे न

कुछ और »

‘असर’ ने स्कूली शिक्षा की खोली पोल, पढ़ाई में अव्वल लड़कियां, जोड़-घटाव में फिसड्डी

देश की शिक्षा व्यवस्था का आधार स्कूली शिक्षा मानी जाती है. बच्चों के प्रारंभिक ज्ञान की नींव स्कूली शिक्षा होती है. हमारे स्कूलों में हो रह

कुछ और »

रांची : सरकारी स्कूलों की कक्षा दो के 32.2% बच्चे नहीं पहचानते अक्षर, सात के 75% नहीं बना पाते घटाव

रांची : राज्य में शिक्षा विभाग के काफी प्रयास के बाद भी स्कूली बच्चों के शैक्षणिक स्तर में आशा के अनुरूप सुधार नहीं हो पा रहा है. असर 2018 के जारी रिपोर्ट में बताया गया है कि राज्य

कुछ और »

सवर्ण आरक्षण: कोटे को लागू करने के लिए बढ़ाई जाएंगी 25 प्रतिशत सीटें

ास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने मंगलवार को बताया कि यह कदम गरीब सवर्णों को उच्च शिक्षा में 10% आरक्षण के मद्देनजर उठाया गया है। साथ ही यहभी स्पष्ट किया कि यह आरक्षण निजी उच्च कुछ और »

चिंताजनक: आठवीं के आधे छात्रों को साधारण गुणा-भाग भी नहीं आता

देश की स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता को लेकर किए जा रहे तमाम प्रयासों के बावजूद पिछले चार साल में इनमें मामूली सुधार ही नजर आ रहा है। आज भी आठवीं कक्षा के आधे से ज्यादा बच्चे गणित

कुछ और »

पटना : 70% को नहीं मिली साइकिल-पोशाक राशि

पटना : राज्य के माध्यमिक स्कूलों के प्रधानाध्यापकों की सुस्ती और शिक्षा विभाग के अधिकारियों की लापरवाही के कारण सूबे के लाखों छात्र साइकिल, पोशाक, छात्रवृति, कन्या उत्थान औ

कुछ और »

आजाद मीडिया के पक्ष में तर्क-- मृणाल पांडे

देश के हर चौराहे, चायखाने, पान की दुकान और शिक्षा परिसर में आजकल भारतीय लोकतंत्र के भविष्य पर चिंता जतायी जा रही है, नाना अटकलें लगायी जा रही हैं. और इन अटकलों का स्रोत मीडिया ह

कुछ और »

मोदी का आरक्षण दांव और विपक्ष -- शशिशेखर

तिक हितों पर ध्यान दिया। इसकी एवज में समाज की निचली सीढ़ियों पर बैठे लोगों की शिक्षा, सेहत और खुशहाली को दरकिनार कर दिया गया। हम एक ऐसी अर्थव्यवस्था बनाने में नाकाम रहे, जो लोग

कुछ और »

Video Archives

Archives

share on Facebook
Twitter
RSS

Read Later