खोज परिणाम

Total Matching Records found : 1938

रोजगार-शिक्षा की चिंताजनक स्थिति-- आशुतोष चतुर्वेदी

भग 60 फीसदी इंजीनियर बेरोजगार रहते हैं. सबसे बड़ी चिंता का विषय यह है कि हमारी शिक्षा प्रणाली रोजगारोन्मुखी नहीं है. केंद्र सरकार कौशल विकास योजना के अंतर्गत रोजगार के अवसर ब

कुछ और »

ढहता हिमालय व गलते ग्लेशियर-- मृणाल पांडे

मझनेवाले वैज्ञानिक और प्रशिक्षक कहां हैं? साठ-सत्तर के दशक तक तो हमारे उच्च शिक्षा और शोध संस्थान जब तब विश्वस्तरीय वैज्ञानिक और विशेषज्ञ पैदा कर ही रहे थे. नेहरू को हम जितन

कुछ और »

नई उड़ान को तैयार अल्पसंख्यक- शाहनवाज हुसैन

रिणाम देने वाली योजनाओं के जरिए किया जा रहा है। सरकार का दृढ़ विश्वास है कि शिक्षा न सिर्फ अज्ञानता का अंधकार मिटाती है, बल्कि निर्माण की कई नई राहें भी इसकी बुनियाद पर बनती

कुछ और »

न्यूनतम मजदूरी का सवाल-- मनींद्र नाथ ठाकुर

ना की गयी. कहा गया कि मजदूरों को पर्याप्त आमदनी होनी चाहिए और उनके स्वास्थ्य, शिक्षा आदि पर राज्य को खर्च करना चाहिए, ताकि उनके पास बाजार में खर्च करने के लिए पैसे हो सकें. इसके

कुछ और »

झारखंड का जनजातीय समाज -- जेबी तुबिद

. महिलाओं को एक नये रूप में संगठित करने की आवश्यकता है. देश की आजादी के बाद शिक्षा के प्रति लोगों का झुकाव बढ़ा है. बालक की तुलना में बालिका शिक्षा, नीतिकार

कुछ और »

न्याय की प्रतीक्षा में आदिवासी!- सी आर मांझी

कर उनकी जनसंख्या में कमी लायी गयी है. इस कारण आदिवासी समुदाय के बीच भुखमरी व अशिक्षा है और वे बेरोजगारी के शिकार हैं. साथ ही बाहरी क्षेत्र से बहुतायत गैर आदिवासी झारखंड में

कुछ और »

कहां कितने अमीर: भारत में यहां बसते हैं सबसे संपन्न लोग, ये जिला है सबसे गरीब

ह में - 9 फीसदी ही अनुसूचित जनजाति के लोग संपन्न, सबसे अधिक गरीबी का अनुपात शिक्षा का सीधा संबंध - 50 फीसदी गैर मुस्लिम सामान्य वर्ग के परिवार में कम से कम एक व्यक्ति 12वीं पास

कुछ और »

आर्थिक संतुलन साधने की कोशिश - सुषमा रामचंद्रन

े, जिन पर वे लोगों को कर्ज या उधार देते हैं। इसका मतलब है कि लोगों के लिए आवास, शिक्षा, कार या ऐसी अन्य निजी जरूरतों की खातिर कर्ज और महंगे हो जाएंगे। ग्राहकों के लिए कर्ज की मास

कुछ और »

दूध महासंकट का ऐसे निकाला समाधान, मिड डे मील में मिलेगा 200 ml दूध

ायपुर। राज्य के 35 लाख स्कूली छात्रों को मध्यान भोजन के साथ दूध मिलेगा। स्कूल शिक्षा विभाग ने छत्तीसगढ़ सहकारी दुग्ध महासंघ मर्यादित के प्रस्ताव पर दूध वितरण का प्रस्ताव तैया

कुछ और »

लोक संसद की कल्पना-- मणीन्द्र नाथ ठाकुर

ेतना स्वतंत्रता संग्राम में फैला था, लगभग खत्म हो गया है. धीरे-धीरे खस्ता हाल शिक्षा व्यवस्था ने भी इसे समाप्तप्राय कर दिया है. इसमें क्या शक है कि जनतांत्रिक चेतना के बिना जन

कुछ और »

Video Archives

Archives

share on Facebook
Twitter
RSS
Feedback
Read Later