खोज परिणाम

Total Matching Records found : 54

किसानों की आय बढ़ाने के लिए धान की फसल के हर हिस्से की मूल्यवृद्धि की ज़रूरत: स्वामीनाथन

षित खेती को बढ़ावा देना, सस्ता और समय पर कर्ज की उपलब्धता, समन्वित रूप से फसल, पशुधन और मानव स्वास्थ्य बीमा पैकेज का विकास आदि शामिल हैं. एक अन्य सवाल के जवाब में स्वामीनाथन न

कुछ और »

जलवायु परिवर्तन के दायरे में दुग्ध उत्पादन भी, नहीं संभले तो अगले साल तक दिखने लगेगा असर

िन के समय तेज गर्मी के दायरे में होंगे और इस कारण पानी की उपलब्धता में गिरावट पशुधन की उत्पादकता पर सीधा असर डालेगी. द वायर हिन्दी पर प्रकाशित इस कथा को विस्तार से पढ़ने के ल

कुछ और »

किसानों का अविश्वास मत पास-- योगेन्द्र यादव

ो गया था, मांग गिर चुकी थी, भाव टूट गये थे. आठवां सच: गौ-हत्या रोकने के नाम पर पशुधन के व्यापार पर लगी पाबंदियों और जहां-तहां गौ-तस्करों को पकड़ने के नाम पर चल रही हिंसा ने कुछ और »

चंपारण से निकला रास्ता- राजू पांडेय

सीमांत और छोटे कृषकों पर आर्थिक बोझ डालने लगे हैं। आधुनिक तकनीक ने कृषि में पशुधन के प्रयोग को विस्थापित किया है। इसका परिणाम यह हुआ है कि अब दूध भी किसानों को खरीदना पड़ रहा ह

कुछ और »

प्राकृतिक आपदा से खेती-बाड़ी को कितना होता है नुकसान..पढ़ें इस नई रिपोर्ट में

वस्था को बीते दस सालों(2005 से 2015) के बीच प्राकृतिक आपदा से हुए फसल के नुकसान तथा पशुधन-उत्पादन में आयी कमी की वजह से 96 अरब डॉलर का घाटा उठाना पड़ा है. द इम्पैक्ट ऑफ डिजॉस्टर एंड क्र

कुछ और »

किसानों को मिले आर्थिक आजादी-- अजीत रानाडे

तिलहन तथा सब्जियों का उत्पादन भी क्रमशः 18 और 14 प्रतिशत नीचे पहुंच चुका है. पशुधन, पशुपालन और मत्स्यपालन समेत पूरा कृषिक्षेत्र, जिसका इस राज्य के जीडीपी में 12 प्रतिशत का योग

कुछ और »

'भारत' वाला बजट, इंडिया वाला नहीं-- संदीप बामजई

अगर आप गौर करें, तो किसान रिकॉर्ड स्तर पर उत्पादन कर रहा है- फल, सब्जियां, दूध, पशुधन, मांस-मछली, ये सारे उत्पादन किसान कर रहे हैं, लेकिन उनको वाजिब दाम नहीं मिल रहा है. यह अजीब

कुछ और »

खेती किसानी की हालत : आखिर कृषि मंत्रालय के आंकड़ों का सच क्या है ?

र 134.67 मिलियन टन हो सकता है.   प्रेस विज्ञप्ति से यह भी जाहिर है कि सीएसओ ने पशुधन से संबंधित उत्पादन के आकलन के लिए दूध, अंडा, मांस तथा ऊन से संबंधित कृषि-विभाग के पशपालन महकम

कुछ और »

पशुपालन से टूटता मोह--- रीता सिंह

जोत है। इसमें सत्तर प्रतिशत कृषक पशुपालन व्यवसाय से जुड़े हैं जिनके पास कुल पशुधन का तकरीबन अस्सी प्रतिशत भाग मौजूद है। यानी स्पष्ट है कि देश का अधिकांश पशुधन<

कुछ और »

बिहार में बाढ़ की त्रासदी--- देवेश कुमार/ निखिल आनंद

ाढ़ प्रभावित इलाकों में माहौल अब ठीक हो रहा है. लेकिन, लोगों के घर-परिवार, अन्न, पशुधन आदि की क्षति-पूर्ति का आकलन व भरपाई होने के बाद आम जनजीवन के व्यवस्थित होने में जरूर वक्त लग

कुछ और »

Video Archives

Archives