खोज परिणाम

Total Matching Records found : 141

बाढ़ में डूबा कर्नाटक, केरल और महाराष्ट्र, राहुल गांधी ने पीएम मोदी से की बात

िनों में काफी बारिश हुई है. राज्य के एक अधिकारी के अनुसार करीब 2.54 लाख लोगों को विस्थापन का शिकार होना पड़ा है. राज्य में 1600 से ज्यादा राहत शिविर बनाए गए हैं. जिसमें हजारों लोग रह

कुछ और »

जम्मू-कश्मीर: हिंसा के कारण विस्थापित होने वालों की तादाद सबसे ज्यादा तादाद

्वाद्ध में संघर्ष और हिंसा के हालात के कारण जिन दस देशों में सबसे ज्यादा लोग विस्थापन के शिकार हुये, भारत ऐसे देशों में युद्ध-जर्जर अफगानिस्तान से बस थोड़ा ही पीछे हैं. रिपोर

कुछ और »

मौलिक अधिकारों का संघर्ष जारी, संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार चार्टर के 70 साल

न बहुसंख्यकवाद यानी पॉपुलिज्म की अवधारणा तेजी से फैली है. इसके पीछे आर्थिक विस्थापन और बढ़ती असमानता बड़ा कारण रहा है. जिस तेजी से ग्लोबलाइजेशन, ऑटोमेशन और तकनीकी बदलाव बढ

कुछ और »

संघवाद पर लगी ताजा चोट--डॉ टीएम थॉमस इसाक

े नतीजे में राजस्व घाटे का भार भी उठाना पड़ेगा. केरल जैसे राज्य जनसंख्या के विस्थापन दर तक पहुंच चुके हैं और अब वे नये श्रमबल का लाभ उठाने के रूप में जनसांख्यिकीय लाभ बटोरने

कुछ और »

जन-आंदोलनों का विचार-- अनुज लुगुन

रीके से आवाज उठाना ही दांडी मार्च का विचार है. यह विचार आज भी आदिवासियों के विस्थापन विरोधी आंदोलनों में, दलितों-वंचितों, किसानों-विद्यार्थियों एवं अन्य नागरिक अधिकार आंद

कुछ और »

अपनी जड़ों को खोजते वे भारतवंशी- बद्री नारायण

े मिलकर हिंदी क्षेत्र का वर्तमान रचा है। एक तो 1857 का विद्रोह, दूसरा गिरमिटिया विस्थापन, जिसे प्रवास, उत्प्रवास कुछ भी कहा जा सकता है। भोजपुरी के प्रसिद्ध नाटककार भिखारी ठाकुर

कुछ और »

आदिवासी समाज का वह योद्धा-- रामचंद्र गुहा

शाह के उन संघर्षों पर भी है, जहां वह प्राकृतिक संसाधनों पर आदिवासियों के हक व विस्थापन का कारण बनने वाली विनाशकारी परियोजनाओं के खिलाफ लड़ते दिखते हैं। इसमें ‘पृथक गोंडवाना

कुछ और »

बड़े बांध का बड़ा विरोध-- नवीन जोशी

दार सरोवर बांध अंतत: अपनी पूरी ऊंचाई के साथ हकीकत बन गया. मगर ‘एक आदिवासी के विस्थापन की तुलना में सात आदिवासियों को लाभ पहुंचाने' के दावे वाले, दुनिया के दूसरे सबसे बड़े इस बा

कुछ और »

सरदार सरोवर : गांव जाते और विस्थापन की बात किए बगैर ही लौट आते थे

कि 16-17 किमी पैदल, कई जगह नाव से नर्मदा पार कर गांव पहुंचते। दो-तीन दिन रुकते और विस्थापन की बात किए बगैर ही लौट आते। यह सिलसिला ढाई से तीन साल तक चलता रहा।' यह कहना है सरदार सरोव

कुछ और »

Video Archives

Archives

share on Facebook
Twitter
RSS
Feedback
Read Later