नरेगा

नरेगा

Share this article Share this article

What's Inside

मनरेगा की आधिकारिक वेबसाइट पर उपलब्ध आंकड़ों के आलोक में 7 मई 2018 को मौजूद इस रोजगार कार्यक्रम की स्थिति http://nrega.nic.in/netnrega/home.aspx : संबंधित सारणी के लिए कृपया यहां क्लिक करें

 

• साल 2018-19 के लिए मंजूर श्रम-बजट 229.89 करोड़ व्यक्ति दिवसों का है. यह साल 2017-18 में मंजूर श्रम-बजट(231.31 करोड़ व्यक्ति-दिवस) से 0.61 प्रतिशत कम है. साल 2014-15 में श्रम-बजट 220.67 करोड़ व्यक्ति-दिवसों का था जबकि 2015-16 में 239.112 करोड़ व्यक्ति दिवसों का और साल 2016-17 में 220.9274 करोड़ व्यक्ति दिवसों का. (यहां अगले वित्त वर्ष में होने वाले कामों में लगने वाली मजदूरी के अग्रिम आकलन को श्रम-बजट कहा गया है)

 

• साल 2014-15 में कुल श्रम-बजट के 75.32 प्रतिशत व्यक्ति-दिवसों का सृजन हुआ, 2015-16 में यह आंकड़ा 98.34 प्रतिशत रहा, 2016-17 में कुल श्रम-बजट के बरक्स कुल सृजित व्यक्ति दिवसों की तादाद 106.66 प्रतिशत रही जबकि 2017-18 के लिए यह आंकड़ा 101.28 प्रतिशत का है. 

 

• साल 2014-15 में सृजित हुए कुल व्यक्ति-दिवसों में अनुसूचित जाति के सदस्यों का हिस्सा 22.4 प्रतिशत रहा, 2015-16 के लिए यह आंकड़ा 22.29 प्रतिशत का, 2016-17 के लिए 21.32 प्रतिशत, 2017-18 के लिए 21.48 प्रतिशत और 2018-19(7मई 2018 तक) के लिए 18.73 प्रतिशत का है. 

 

• साल 2014-15 में सृजित हुए कुल व्यक्ति दिवसों में अनुसूचित जनजाति के सदस्यों का हिस्सा 16.97 प्रतिशत रहा, साल 2015-16 के लिए यह आंकड़ा 17.8 प्रतिशत, 2016-17 के लिए 17.62 प्रतिशत, 2017-18 के लिए 17.6 प्रतिशत तथा 2018-19 के लिए(7मई 2018 तक) 19.68 प्रतिशत का है. 

 

• साल 2014-15 में सृजित हुए कुल व्यक्ति दिवसों में महिला कामगारों का हिस्सा 54.88 प्रतिशत रहा, साल 2015-16 के लिए यह आंकड़ा 55.26 प्रतिशत, 2016-17 के लिए 56.16 प्रतिशत, 2017-18 के लिए 53.46 प्रतिशत तथा 2018-19 के लिए(7मई 2018 तक) 53.75 प्रतिशत का है. 

 

• साल 2014-15 में प्रति परिवार औसतन 40.17 दिन का रोजगार प्रदान किया गया. साल 2015-16 के लिए यह आंकड़ा 48.85 दिन, साल 2016-17 के लिए 46.0 दिन, साल 2017-18 के लिए 45.78 दिन तथा साल 2018-19 के लिए(7 मई 2018 तक) 14.04 दिन का है. 

 

• साल 2014-15 के लिए प्रतिदिन प्रतिव्यक्ति मजदूरी-दर का औसत 143.92 रुपये, साल 2015-16 में 154.08 रुपये, साल 2016-17 में 161.65 रुपये, साल 2017-18 में 169.46 रुपये तथा साल 2018-19 में ( 7 मई 2018) तक 174.89 रुपये रहा. 

 

•  साल 2014-15 में 100 दिन का रोजगार हासिल करने वाले परिवारों की तादाद 6.02 फीसद थी, साल 2015-16 के लिए यह आंकड़ा 10.07 प्रतिशत परिवारों का, 2016-17 के लिए 7.79 प्रतिशत परिवारों का तथा 2017-18 के लिए 5.78 प्रतिशत परिवारों का है.

 

• साल 2014-15 में कुल 6.22 करोड़ लोगों ने काम किया, 2015-16 में मनरेगा में काम करने वाले कामगारों की तादाद 7.2261 करोड़ थी जबकि साल  2016-17 में 7.6693 करोड़ और साल 2017-18 में 7.59 करोड़ कामगारों ने मनरेगा में काम किया.. साल 2018-19 के लिए (7 मई 2018 तक) यह आंकड़ा 1.4 करोड़ कामगारों का है.  

 

• साल 2014-15 में मनरेगा पर शून्य व्यय वाले ग्राम पंचायतों की संख्या 39,531 थी, 2015-16 में ऐसे ग्राम-पंचायतों की संख्या 39,469 , 2016-17 में 19,451, 2017-18 में 11,494 और 2018-19(7 मई 2018 तक) में 77,708 थी. 

 

• साल 2014-15 में कुल काम में पूरा किए गए कामों की संख्या 30.15 प्रतिशत थी. साल  2015-16 में यह तादाद 29.39 प्रतिशत, साल 2016-17 में 40.27 प्रतिशत, 2017-18 में 32.01 प्रतिशत तथा 2018-19(7 मई 2018 तक) 3.3 प्रतिशत है थी.  



Rural Expert
 

Write Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Video Archives

Archives

share on Facebook
Twitter
RSS
Feedback
Read Later

Contact Form

Please enter security code
      Close