नरेगा

नरेगा

Share this article Share this article

What's Inside

 

 

एनएसएस की रिपोर्ट संख्या 563- [inside)एम्पलॉयमेंट एंड अन्एम्पलॉमेंट सिचुएशन अमॉग सोशल ग्रुप्स(प्रकाशित जनवरी 2015)[/inside] के अनुसार-

http://mospi.nic.in/Mospi_New/upload/nss_rep_563_13mar15.pdf

 

---- बिहार में मनरेगा जॉबकार्ड धारक अनुसूचित जनजाति के परिवारों की तादाद 7.3% है जबकि छत्तीसगढ़ 73.6%, झारखंड में 38.1% , मध्यप्रदेश में 76.9%, ओड़िशा में 55.1%, राजस्थान में 82.3% तथा उत्तरप्रदेश में 31.3% ।

---- मनरेगा जॉबकार्ड-धारक अनुसूचित जनजाति के परिवारों की तादाद बिहार में 35.8% छत्तीसगढ़ में 75.6%, झारखंड में 44% , मध्यप्रदेश में 73% , ओड़िशा में 48.1%, राजस्थान में 80.6%  तथा उत्तरप्रदेश में 43.4% है।

----  मनरेगा के अंतर्गत रोजगार मांगने के बावजूद रोजगार से वंचित रहने वाले अनुसूचित जनजाति के लोगों की संख्या बिहार में 37.5%, छत्तीसगढ़ में 8.9% , झारखंड में 16.4%, मध्यप्रदेश में 13.2%, ओड़िशा में 23.7% , राजस्थान में 22.1% तथा उत्तरप्रदेश में 19.8% है।

---- मनरेगा के अंतर्गत रोजगार मांगने के बावजूद रोजगार से वंचित रहने वाले अनुसूचित जाति के लोगों की संख्या बिहार में 33.8% , छत्तीसगढ़ में 13.4%, झारखंड में 37.8%, मध्यप्रदेश में  21.3%, ओड़िशा में 25.6%, राजस्थान में 22.8% तथा उत्तरप्रदेश में 15.2%  है।


* ग्रामीण इलाके के तकरीबन 38.4%  परिवारों के पास मनरेगा का जॉब कार्ड है।

* अन्य पिछड़ा वर्ग के परिवारों के मुकाबले अनुसूचित जाति-जनजाति के परिवारों के पास मनरेगा के जॉब कार्ड अधिक हैं। अनुसूचित जनजाति के 57.2% , अनुसूचित जाति के 50%, अन्य पिछड़ा वर्ग के 34.2% तथा अन्य श्रेणी के 27.1% परिवारों के पास मनरेगा के जॉबकार्ड हैं।

* ग्रामीण इलाकों में 18 साल या इससे ज्यादा उम्र के तकरीबन 23.7%  व्यक्ति मनरेगा के जॉबकार्ड के लिए पंजीकृत हैं।

*  लगभग 28.1% पुरुष और 19.4% महिलायें ग्रामीण इलाके में मनरेगा के जॉबकार्ड के लिए पंजीकृत हैं।


* अठारह साल या इससे ज्यादा उम्र के जो व्यक्ति मनरेगा जॉबकार्ड के अंतर्गत पंजीकृत हैं उनमें 50.5% को इस कार्यक्रम के अंतर्गत रोजगार मिला, 18.8% ने काम मांगा लेकिन उन्हें काम नहीं दिया जा सका जबकि 30.5%  ने काम नहीं मांगा।

* मनरेगा के अंतर्गत काम हासिल करने वाले लोगों में अनुसूचित जाति के सदस्यों की संख्या (55.6%) सबसे ज्यादा है। इसके बाद अनुसूचित जनजाति (50.5%), अन्य पिछड़ा वर्ग (49.1%) तथा अन्य की श्रेणी में शामिल ग्रामीण परिवार के सदस्यों((45.5%). का नंबर है।

 



Rural Expert
 

Write Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Video Archives

Archives

share on Facebook
Twitter
RSS
Feedback
Read Later

Contact Form

Please enter security code
      Close