चर्चा में.....

बाल-अधिकारों के बीस बरस

बाल-अधिकारों के बीस बरस बाल अधिकारों की वैश्विक स्वीकृति से जुड़े कन्वेंशन को दो दशक होने को आये लेकिन दुनिया आज भी बच्चों के लिए इस धरती को एक बेहतर, ज्यादा सुरक्षित और सेहतकारी बनाने के लक्ष्य से बहुत दूर है। इस दिशा में सबसे बड़ी चुनौती दक्षिण एशिया और...

+ More...
पूर्वानुमानों से कहीं ज्यादा तेज है जलवायु परिवर्तन की गति

400 की तादाद में मुख्य वैज्ञानिक अध्ययनों पर आधारित यूएन की हालिया पर्यावरण रिपोर्ट में कहा गया है कि जलवायु परिवर्तन का खतरा पहले के अनुमानों से कहीं अधिक है।यूएनईपी क्लाइमेट चेंज साईंस कंपेडियम 2009 की रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि समुद्र तल साल 2100 तक...

+ More...
महिलाओं पर बढता हिंसाचार-यूएन रिपोर्

यह बात जानी पहचानी है कि महिलाओं पर हिंसा के मामले में भारत का रिकार्ड खासा खराब है मगर चौंकाने वाली बात यह है कि महिलाओं के साथ हिंसाचार की घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं। यूनाइडेट नेशन्स डेवलपमेंट फंड फॉर विमेन(यूनिफेम) की एक रिपोर्ट के अनुसार भारत...

+ More...
ग्लोबल वार्मिंग की एक रिपोर्ट पर विचारों का महाभारत

यूएनएफपीए की एक रिपोर्ट द स्टेट ऑव वर्ल्ड पॉपुलेशन 2009 के जारी होने के साथ ग्लोबल वार्मिंग के मुद्दे पर विचारों की टकराहट अपने चरम पर जा पहुंची है(रिपोर्ट की लिंक नीचे दी गई है) केंद्रीय वन और पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश ने इस रिपोर्ट को...

+ More...
भू-अधिग्रहण और पुनर्वास बिल का विरोध

भूमि अधिग्रहण (संशोधन) और पुनर्वास बिल को चालू संसदीय सत्र में पास पास करवाने की हड़बड़ी दिखाने के कारण यूपीए सरकार की भूरपूर आलोचना हो रही है।दोनों बिल को गरीबी-विरोधी माना जा रहा है क्योंकि इन बिलों के प्रावधानों से जाहिर होता है कि किसान...

+ More...

Video Archives

Archives

share on Facebook
Twitter
RSS
Feedback
Read Later

Contact Form

Please enter security code
      Close