Resource centre on India's rural distress
 
 

पटना : 22 से 30 जून तक बांटी जायेंगी स्कूलों की किताबें

पटना : 22 जून से 30 जून तक बीआरसी और सीआरसी कार्यालय या जिला शिक्षा कार्यालय की तरफ से निर्धारित जगहों पर मिडिल स्कूलों की किताबें बांटी जायेंगी. किताबें कक्षा एक से आठ तक की बांटी जानी हैं.

इसके लिए स्कूल स्तर पर पाठ्यपुस्तक प्रभारियों से मांग पत्र मांगा गया है. यह मांग पत्र जिला शिक्षा पदाधिकारी को 12 से 16 जून तक हर हाल में देना है. इसी आधार पर किताबों को बीआरसी और सीआरसी लेवल पर पहुंचाया जायेगा. यहां जिला शिक्षा कार्यालय या तो विक्रेता के जरिये किताबें पहुंचायेगा या किसी दूसरे सप्लायरों की नियुक्ति करेगा.

आधिकारिक जानकारी के मुताबिक किताबों के बंटने की सूचना स्कूलों को बच्चों और उनके अभिभावकों तक पहुंचानी है. बीआरसी और सीआरसी कार्यालयों पर पहुंचकर खाते में पहुंची राशि से किताबें खरीदवायी जायेंगी. इधर जिन बच्चों के खाते में किताबें खरीदने के लिए राशि नहीं डाली गयी है, उनके खाते में हर हाल में 10 जून तक राशि डालने के निर्देश भी जारी कर दिये गये हैं.

दुकान तक नहीं पहुंची थीं किताबें

गौरतलब है कि इस साल से पहले तक किताबें बांटने की जिम्मेदारी निजी क्षेत्र के प्रकाशक की थी. दरअसल किताबों को ठेके पर छपवाया गया है. वहां से किताबें निजी दुकानों पर भेजा जाती थीं. अभी तक देखा जा रहा था कि अधिकांश किताबें दुकानों तक नहीं पहुंचायी गयी हैं. इससे नये शैक्षणिक सत्र की शुरुआत में किताबें बच्चों के हाथों में नहीं पहुंच सकीं. लिहाजा अधिकारियों ने किताबों को वितरित करने की नयी व्यवस्था बनायी है.

क्या कहते हैं अधिकारी

कक्षा एक से आठ तक बीआरसी और सीआरसी कार्यालय स्तर पर 20 से 30 जून के बीच सरकारी किताबें बंटवायी जायेंगी. संबंधित पक्षों को दिशा-निर्देश दिये गये हैं. मांग पत्र तैयार हो रहे हैं. बच्चों के खाते में 10 जून तक राशि डाल दी जायेगी. उच्चाधिकारियों की तरफ मिले निर्देशों का पालन कराया जा रहा है.
दिलीप कुमार सिन्हा, एपीओ और पाठ्यपुस्तक प्रभारी, पटना