देश में टीबी से 79,144 लोगों की मौत, 2019 में सामने आए 24 लाख से ज्यादा मामले

Share this article Share this article
published Published on Jun 26, 2020   modified Modified on Jun 26, 2020

-डाउन टू अर्थ,

भारत में 2019 के दौरान टीबी के 24 लाख से ज्यादा मामले सामने आए हैं। वहीं एक साल में 79,144 लोगों की मौत हुई। यह जानकारी 24 जून को जारी की गई 'इंडिया टीबी रिपोर्ट 2020' में सामने आई है। यदि 2018 की तुलना में देखें तो 2019 में टीबी के 12 फीसदी ज्यादा मामले सामने आए हैं।

जबकि रिपोर्ट के अनुसार करीब 2 लाख मरीजों के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है। साथ ही 1.3 लाख से ज्यादा मरीज ऐसे हैं जो रजिस्ट्रेशन कराने के बाद वापस अस्पताल ही नहीं गए। वहीं, विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी ‘ग्लोबल ट्यूबरक्लोसिस रिपोर्ट 2019’ के अनुसार वैश्विक स्तर पर करीब 1 करोड़ लोग इस बीमारी से ग्रस्त हुए थे, जिनमें से सबसे बड़ी संख्या भारतीयों की थी। इस रिपोर्ट के अनुसार भारत में करीब 27 लाख लोग इस बीमारी से ग्रस्त थे| जोकि दुनिया के कुल टीबी मरीजों के एक-चौथाई से भी ज्यादा है| इनमें से करीब 4 लाख मरीजों की मौत हो गई थी| जबकि ‘इंडिया टीबी रिपोर्ट 2020’ के अनुसार देश में टीबी से मरने वालों का यह आंकड़ा घटकर 79,144 रह गया है| जोकि एक बड़ी उपलब्धि है| यदि 2017 के आंकड़ों को देखें तो उस वर्ष में करीब 10 लाख से ज्यादा मरीजों के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं थी। वहीं 2019 में इनमें भी कमी आई है, और यह आंकड़ें घटकर 2.9 लाख रह गए हैं। गौरतलब है कि टीबी के कुल मरीजों में 1,51,286 बच्चे शामिल हैं।

उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, राजस्थान और बिहार में सामने आये सबसे ज्यादा मामले
देश में टीबी के सबसे ज्यादा मामले उत्तरप्रदेश में सामने आये हैं| आंकड़ों के अनुसार उत्तरप्रदेश में देश के करीब 20 फीसदी टीबी मरीज हैं| इसके बाद महाराष्ट्र का नंबर आता है जहां देश के 9 फीसदी टीबी मरीज हैं| इसके बाद 8 फीसद के साथ मध्य प्रदेश और सात-सात फीसदी के साथ राजस्थान और बिहार का नंबर आता है| अकेले इन पांच राज्यों में ही देश के 51 फीसदी टीबी मरीज हैं|

यदि प्रति दस लाख लोगों पर देखा जाए तो टीबी के 1,590 मामले सामने आये हैं| जबकि तुलनात्मक रूप से देखें तो कोरोनावायरस के 343 मामले हैं| यदि आबादी के हिसाब से देखा जाए तो टीबी के सबसे ज्यादा मामले चंडीगढ़ में सामने आये हैं| जहां प्रति 10 लाख पर 6050 मामले दर्ज किये गए हैं| इसके बाद दिल्ली (5740/दस लाख) फिर पुडुचेरी (3130/दस लाख) का नंबर है|

मल्टी-ड्रग रेसिस्टेंट (एमडीआर) टीबी के भी सामने आए 66,359 मामले
देश में मल्टी-ड्रग रेसिस्टेंट (एमडीआर) और आरआर टीबी के भी 66,359 मामले सामने आये हैं| जिनमें से 56,569 का इलाज किया जा रहा है| जिनमें से 7.6 फीसदी मरीजों की स्थिति में सुधार आया है| इसकी रोकथाम और इलाज के लिए देश भर में 711 ड्रग रेसिस्टेंट टीबी केंद्र बनाए गए हैं| जो जांच के साथ-साथ मरीजों का इलाज भी करते हैं| इसके साथ ही भारत में हर साल करीब 92,000 एचआईवी पॉजिटिव लोगों को टीबी हो जाता है| जोकि कुल टीबी मरीजों का 3.4 फीसदी है| यह एक बड़ी समस्या है क्योंकि एक से ज्यादा बीमारियां में मृत्युदर ज्यादा होती है| क्योंकि मरीज को एक साथ दोहरी और कई बार उससे भी ज्यादा बीमारियों का बोझ ढोना पड़ता है| भारत में इस वजह से हर साल करीब 9,700 लोगों की मृत्यु हो जाती है| यदि वैश्विक स्तर पर देखें तो भारत में विश्व के करीब 9 फीसदी मरीज टीबी और एचआईवी दोनों ही बीमारियों का बोझ झेल रहे हैं| इस मामले में भारत दुनिया में दूसरे स्थान पर है|

पूरा लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 


ललित मौर्य, https://www.downtoearth.org.in/hindistory/health/non-communicable-disease/24-04-lakh-tuberculosis-patients-notified-in-2019-71949


Related Articles

 

Write Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Video Archives

Archives

share on Facebook
Twitter
RSS
Feedback
Read Later

Contact Form

Please enter security code
      Close