क्या ‘सार्वभौमिक मास्किंग’ कोरोनावायरस के एक ‘अनगढ़ टीके’ की तरह काम करती है?

Share this article Share this article
published Published on Sep 29, 2020   modified Modified on Sep 29, 2020

-न्यूजलॉन्ड्री,

दुनिया आज एक सुरक्षित और प्रभावी कोरोनावायरस टीके के आने का इंतजार कर रही है. इसी सिलसिले में शोधकर्ताओं के एक दल ने एक उकसाने वाली नयी थ्योरी पेश की है, कि फेस-मास्क (मुखौटा) वायरस के खिलाफ लोगों को प्रतिरक्षित करने में मदद करता है. न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ़ मेडिसिन में पिछले दिनों प्रकाशित एक टिप्पणी में छपा एक अप्रमाणित विचार जो कि ‘वेरिओलेशन’ की पुरानी अवधारणा से प्रेरित है. इसके अनुसार सुरक्षात्मक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया उत्पन्न करने के लिए किसी रोगजनक जरासीम (विषाणु,कीटाणु या कवक इत्यादि) को जानबूझकर किसी स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में इंजेक्ट किया जाए. इसका उपयोग इतिहास में सबसे पहले चेचक के वायरस के खिलाफ किया गया था. ये निहायत जोखिम भरा प्रयोग था इसीलिए अंततः इसे दूसरे सक्रामक रोगों के लिए दोबारा प्रयोग नहीं किया गया, लेकिन इस प्रयोग ने आधुनिक टीकों के उदय का मार्ग प्रशस्त किया था.

ये ज़ाहिर सी बात है कि प्रतिरक्षा प्राप्त करने के लिए मास्क में रहकर वायरस की सीमित मात्रा प्राप्त करना कोई विकल्प नहीं हैं. लेकिन कोरोनोवायरस से संक्रमित जानवरों के शोध परिणाम तथा अन्य छूत की बीमारियों पर किये गए परीक्षण इसका सुझाव देते हैं, कि यदि बीमारी फैलने वाले जरासीम (विषाणु, जीवाणु इत्यादि) की मात्रा को कम कर दिया जाए, तो गंभीर बीमारी होने की सम्भावना भी कम हो जाती है. इसी तरह मास्क, किसी भी व्यक्ति के वायुमार्ग से मुठभेड़ करने वाले कोरोनावायरसों की संख्या में कटौती कर देता है, और इसे पहनने वाले के बीमार होने की संभावना या तो कम हो जाती है, और या तो वो बस आंशिक रूप से बीमार पड़ता है.

शोधकर्ताओं का तर्क है कि सीमित मात्रा में रोगकारक-जरासीम शरीर की प्रतिरक्षा कोशिकाओं के उत्प्रेरक की तरह काम कर सकता है. हमारे प्रतिरक्षा-तंत्र की वायरस के साथ इस तरह की सीमित मुठभेड़, उसकी ‘यादाश्त’ में क़ैद हो जाती है, और अगली बार हमारे शरीर पर जैसे ही रोगकारक-जरासीम का हमला होता है, तो हमारी प्रतिरक्षा तंत्र पहले से ही चाक-चौबंद रहती है, और उस रोगकारक-जरासीम को पटखनी दे देती है. "आपके पास यह वायरस हो सकता है लेकिन स्पर्शोन्मुख (बिना लक्षण वाला) हो सकता है". डॉ मोनिका गांधी ने बताया जो कि कैलिफ़ोर्निया विश्वविद्यालय, सैन फ्रांसिसको में एक संक्रामक रोग चिकित्सक हैं, और न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ़ मेडिसिन के लेखकों में से एक हैं तो. "अगर आप मास्क के साथ स्पर्शोन्मुख संक्रमण (गंभीर रोगियों के मुकाबले) की दरों को बढ़ा सकते हैं, इसलिए शायद यह (सार्वभौमिक मास्किंग) पूरी आबादी को सीमित संक्रमण करने का एक तरीका हो सकता है".

इसका मतलब यह बिलकुल भी नहीं होगा कि लोगों को जानबूझकर वायरस के साथ खुद को टीका लगाने के लिए एक मास्क दान करना चाहिए. "यह बिल्कुल भी हमारी सिफारिश नहीं है. डॉ गांधी ने फिर कहा कि हम ‘पोक्स पार्टियों’ को प्रोत्साहित नहीं करते हैं. उन्होंने चेचक के इतिहास में होने वाले ऐसे सामाजिक समारोहों का ज़िक्र करते हुए कहा कि जिनमें प्रतिरक्षा उत्प्रेरित करने के लिए बच्चों के बीच जानबूझकर संक्रामक बीमारी को फ़ैलाया जाता था, उन्हें आज के युग में अनैतिक माना जायेगा. क्लिनिकल ​​परीक्षणों के बिना इस सिद्धांत को सीधे साबित नहीं किया जा सकता है, हालांकि, इसके लिए हमें उन समारोह जैसे ही अनैतिक प्रयोगात्मक सेट-उप की आवश्यकता होगी, जिनमें मास्क लगाने वाले ऐसे लोगों के परिणामों की तुलना करनी पड़ेगी जो कोरोनोवायरस की उपस्थिति में दूसरे बिना मास्क वाले लोगों से अर्जित किया जायेगा. अन्य विशेषज्ञों से पूछे जाने पर वे बिना बड़े आंकड़ों के इसे पूरी तरह से स्वीकार करने के अनिच्छुक दिखे, और उन्होंने इसकी सावधानीपूर्वक व्याख्या करने की सलाह दी.

एरिज़ोना में स्थित एक संक्रामक रोग महामारी विज्ञानी सस्किया पोपेस्कु ने कहा कि यह एक विस्मयकारी छलांग जैसा लगता है. हमारे पास इसका समर्थन करने के लिए बहुत कुछ नहीं है. इस फ़लसफ़े का गलत अर्थ निरूपण विचार शालीनता के साथ एक झूठ का भाव पैदा कर सकता है, संभवतः लोगों को पहले से अधिक जोखिम में डाल सकता है, या शायद गलत धारणा को भी बढ़ा सकता है कि कोरोनावायरस से बचने के लिए मास्क लगाना पूरी तरह से बेकार है, क्योंकि इसे पहनने के बावजूद ये विषाणुं आपके श्वसनतंत्र में दाख़िल होता है, इसका मतलब मास्क अपने आप में संक्रमण के लिए अभेद्य सुरक्षा कवच नहीं हैं. हम अभी भी चाहते हैं कि लोग अन्य सभी (बताई गयी) रोकथाम रणनीतियों का पालन करें.

डॉ पोपेस्कु ने आगे कहा कि इसका मतलब है कि भीड़-भाड़ वाली जगहों में जाने से बचना, शारीरिक दूरी और हाथ की स्वच्छता के बारे में सतर्क रहना. कोरोनोवायरस ‘वेरिओलेशन’ सिद्धांत की दो मान्यताओं पर टिका हुआ है जिनको साबित करना बहुत मुश्किल है- इनमे से पहला है कि वायरस की कम खुराक से कम गंभीर बीमारी होती है. और दूसरा, यह कि ये हल्की या स्पर्शोन्मुख (बिना लक्षण वाली) बीमारी के बाद, उसके खिलाफ लंबे समय तक सुरक्षा प्रदान कर सकता है. हालांकि अन्य रोगजनकों का महामारी- इतिहास, दोनों अवधारणाओं के लिए कुछ मिसाल ज़रूर पेश करता है, लेकिन इस परिपेक्ष्य में कोरोनोवायरस के लिए सबूत अभी बहुत कम हैं, क्योंकि वैज्ञानिकों को अभी तक केवल कुछ महीनों के लिए ही इस वायरस का अध्ययन करने का अवसर मिला है.

हैमस्टर (चूहों की प्रजाति का एक जानवर) पर किये गए कोरोनावायरस प्रयोगों ने खुराक और बीमारी के बीच संबंध पर कुछ संकेत भले ही दिये हैं. इस साल की शुरुआत में चीन में शोधकर्ताओं की एक टीम ने पाया कि सर्जिकल मास्क से बानी रुकावट के पीछे हैमस्टर्स को रखने पर कोरोनावायरस से संक्रमित होने की संभावना दर कम मापी गयी. और उनमें से जिन जानवरों को वायरस का संक्रमण हुआ भी उनकी बीमारी के लक्षण बिना मास्क वाले अन्य जानवरों की तुलना में बहुत कम गंभीर और हल्के पाए गए.

पूरी रपट पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 


डॉ. यूसुफ़ अख्तर, https://www.newslaundry.com/2020/09/28/coronavirus-coronavirus-vaccine-mask-research-infection-coronavirus-tika


Related Articles

 

Write Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Video Archives

Archives

share on Facebook
Twitter
RSS
Feedback
Read Later

Contact Form

Please enter security code
      Close