कोरोना के दौर में घुमंतू समुदाय

Share this article Share this article
published Published on Aug 8, 2020   modified Modified on Aug 8, 2020

-डाउन टू अर्थ,

कोरोनावायरस के फैलाव को कम करने के लिए लगाए गए लॉकडाउन ने पहले से बदहाल घुमंतू समुदाय की कमर तोड़कर रख दी है। पशुधन पर आश्रित ये समुदाय अब अपने पशुओं को खिलाने की स्थिति में नहीं है। राइका रैबारी समुदाय ने अपने ऊंटों को खुला छोड़ दिया है। भेड़-बकरी पालक भी हताश हैं। मार्च और अप्रैल में लगे लॉकडाउन ने इन घुमंतुओं को एक स्थान रुकने को मजबूर कर दिया जिससे इनकी सदियों से चली आ रही घूमने की परंपरा पर अचानक विराम लग गया। इस समुदाय पर किसी का ध्यान नहीं है।

घुमंतू कौन हैं?

घुमंतू ऐसे लोग होते हैं जो किसी एक जगह टिककर नहीं रहते बल्कि रोजी-रोटी की तलाश में यहां से वहां घूमते रहते हैं। देश के कई हिस्सों में हम घुमंतुओं को अपने जानवरों के साथ आते-जाते देख सकते हैं। घुमंतू की किसी टोली के पास भेड़-बकरियों का झुंड होता है तो किसी के पास ऊंट या अन्य मवेशी रहते हैं। क्या उन्हें देखकर आपने कभी सोचा है कि वे कहां से आए हैं और कहां जा रहे हैं? क्या आपको पता है कि वे कैसे रहते हैं, उनकी आमदनी के साधन क्या है और उनका अतीत क्या था? अक्सर मान लिया जाता है कि ये ऐसे लोग हैं जिनके लिए आज आज के दौर में कोई जगह नहीं है। जब समय कोरोना महामारी का हो तब शायद ही किसी का ध्यान इस समुदाय की ओर गया हो।  

राजस्थान के घुमंतू

मार्च और अप्रैल में राजस्थान के घुमंतू चारे और संसाधन की तलाश में प्रदेश की सीमा को पार करते हैं। इस बार ऐसा नहीं हो पाया जिससे घुमंतुओं की पूरी व्यवस्था चरमरा सी गई है। घुमंतू कोई अलग समाज नहीं है। इनके और स्थायी निवासियों के बीच आदान-प्रदान के गहरे संबंध चले आए हैं। राजस्थान के सूखे इलाके के घुमंतू राइका, सिंधी, पडिहार, बिलोच आदि चराई के काम में लगते हैं। इनमें से राइका एक अति प्राचीन क्षत्रिय जाति है जिसके मूल सिंधु घाटी सभ्यता से जुड़े हुए हैं। इस जाति के लोग खेती और ऊंट पशुपालन व्यवसाय से जुड़े हुए हैं। इनको अलग-अलग नामों से जाना जाता है। राजस्थान के पाली, सिरोही ,जालोर जिलों में रैबारी दैवासी के नाम से जाने जाते हैं। उत्तरी राजस्थान जयपुर और जोधपुर संभाग में इन्हें राइका नाम से जाना जाता है। हरियाणा और पंजाब में भी इस समुदाय  को राइका ही कहा जाता है। गुजरात और मध्य राजस्थान में इन्हें रैबारी, रबारी देसाई गोपालक और हीरावंशी नाम से भी पुकारा जाता है।

राजस्थान के हालात और घुमंतू

कोरोना से प्रभावित राजस्थान के घुमंतू समुदाय के सदस्य महादान राइका का कहना हैं, “पिछले 30 सालों में बड़ी तेजी से परिवर्तन आया है। पहले गांव के किसान खुद कहते थे कि हमारे खेतों में मवेशी को बिठाओ, क्योंकि उससे उन्हें खाद मिलती थी। हर रात के हिसाब से कुछ पैसे भी देते थे। कभी-कभी खाद के बदले में किसान अनाज भी देते थे लेकिन वह प्रथा अब टूटने लगी है।” हाल के वर्षों में गांव के स्थायी निवासी इन घुमंतुओं को मुसीबत मानने लगे हैं। ये घुमंतू पहले जो चीजें बनाते थे, उनके लिए अब गांव वाले इन पर निर्भर नहीं हैं।

राजस्थान के इलाकों में बारिश का कोई भरोसा नहीं होता। होती भी थी तो बहुत कम, इसीलिए खेती की उपज हर साल घटती-बढ़ती रहती थी। बहुत सारे इलाकों में तो दूर-दूर तक कोई फसल होती ही नहीं होती। इसके चलते राइका खेती के साथ-साथ चरवाही का भी काम करते थे। बरसात में तो बाड़मेर, जैसलमेर, जोधपुर और बीकानेर के राइका अपने गांवों में ही रहते थे क्योंकि इस दौरान उन्हें वहीं चारा मिल जाता था। अक्तूबर आते-आते ये चारागाह सूखने लगते थे। नतीजतन ये लोग नए चरागाहों की तलाश में दूसरे इलाकों की  निकल जाते थे और अगली बरसात में ही लौटते थे। राइकाओं का एक तबका ऊंट पालता था जबकि कुछ भेड़-बकरियां पालते थे।

क्यों रहे उपेक्षित

घुमंतू  समुदाय आज से नहीं बल्कि अंग्रेजों के जमाने से उपेक्षा का दंश झेल रहे हैं। अंग्रेज सरकार चारागाहों को खेती की भूमि में तब्दील कर देना चाहती थी। भूमि से मिलने वाला लगान से उसकी आमदनी में बढ़ोतरी हो। उन्नीसवीं सदी के मध्य तक आते-आते देश के विभिन्न प्रांतों में वन अधिनियम भी पारित किए जाने लगे थे। इन कानूनों की आड़ में सरकार ने ऐसे कई जंगलों को आरक्षित वन घोषित कर दिया जहां देवदार या साल जैसी कीमती लकड़ी पैदा होती थी। इन जंगलों में चरवाहों के घुसने पर पाबंदी लगा दी गई। कई जंगलों को संरक्षित घोषित कर दिया गया।

पूरी रपट पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 


संध्या झा, https://www.downtoearth.org.in/hindistory/health/communicable-disease/the-nomadic-community-in-the-era-of-corona-72705


Related Articles

 

Write Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Video Archives

Archives

share on Facebook
Twitter
RSS
Feedback
Read Later

Contact Form

Please enter security code
      Close